सोच रहा हूँ कुछ ऐसा लिखू - Sad Love Quotes
सोच रहा हूँ कुछ ऐसा लिखू

सोच रहा हूँ कुछ ऐसा लिखू की वो, पढ़ के रोये भी न और रात भर सोये भी न। Soch Raha Hun Kuchh Aisa Likhu Ki Wo, Padh Ke Roye Bhi Na Aur Raat Bhar Soye Bhi Na.


दर्द   Sad Love Quotes   124   Download

Loading more posts